अवनीश आर्य

दिल की बात

3 Posts

0 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 25875 postid : 1352113

ओ शांत सड़क

Posted On: 8 Sep, 2017 कविता में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

ओ शांत सड़क ओ शांत सड़क
क्युँ खामोश भला तु है अबतक|
निर्दय हो संवेदनहीन बना,
बतला जाने लेगा तु कबतक ||

नित आते-जाते पदचिन्हो को
क्या तुमने न पहचाना था|
दुर्घटना के तीखे आहट को,
क्या सच में तूने न जाना था ||

क्यों मौन पड़ा, निस्तब्ध हुआ
क्या है सच आखिर बोलो तुम |
किसने की ये निर्मम हत्या,
क्या राज छिपा है खोलो तुम ||

क्या होगा प्रतिउत्तर तेरा
जब माँ पूछेगी पुत्र कहाँ?
सपने आँखों में लिए पिता,
चित्तकरेगा वो लाल कहाँ?

क्या तेरा ह्रदय न काँपेगा
वेदन भरे स्वरों को सुनकर |
क्या तु, क्या न पछतायेगा,
उन दुखित मनों को छलकर ||

प्रतिदिन ही अपने आँगन में
ये नीच कर्म क्यों करते हो
जिसने तुमको जन्म दिया
उसका ही जीवन हरते हो ||

ओ शांत सड़क ओ शांत सड़क
क्युँ खामोश भला तु है अबतक ||

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran